मीतू का बयान आया सामने 8 से 14 जून के बीच क्या-क्या हुआ, आभ जाने

0
234

दोस्तो सुशांत सिंह राजपूत की मौत की वजह पता लगाने के लिए सीबीआई जांच चल रही है। इस मामले में कई लोगो से पूछताछ हों चुकी है। सुशांत की बहने रानी, प्रियका ओर मीतू के बयान दर्ज हो चुके है। बयान सीबीआई को दिए जा चुके है। इंडिया टुडे की रिपोर्ट में सुशांत की बहन मीतू सिंह का बयान सामने आया है। उन्होंने बताया कि 8 जून से लेकर 14 जून तक क्या-क्या हुआ। 

दोस्तो रिपोर्ट के मोताबिक, मीतू ने बताया, की 8 जून को सुबह, मेरे भाई सुशांत ने मुझे फोन किया और मुझे मिलने के लिए बुलाया। मैं शाम को 5:30 बजे पहुंच गई। जब मैं उनसे मिलने पहुंची तो वह शांत थे। जब मैंने पूछा कि क्या हुआ तो उन्होंने बताया कि लॉकडाउन की वजह से वह कहीं जा नहीं पाए तो बोर हो रहे हैं। उन्होंने मुझे बताया कि लॉक डाउन खत्म होगा तो वह साउथ इंडिया जाएंगे। 

दोस्तों मीतू सिंह आगे बताया कि, उन्होंने मुझसे कहा कि मैं उनके साथ कुछ दिन रुक जाऊं। मैं कुछ दिन के लिए रुक गई। जब मैं सुशांत के साथ थी तो उनके पसंद का खाना बनाया करती थी, उनसे बातें किया करती थी और लॉकडाउन के बाद साउथ इंडिया घूमने की बातें करते थे। 

दोस्तों मीतू ने आगे बयान दिया है कि 12 जून को मेरी बेटी गोरेगावं में अकेली थी। मैं दोपहर 4.30 के बाद गोरेगांव अपने घर चली गई। घर पहुंचकर मैंने सुशांत सिंह राजपूत को मेसेज किया लेकिन उन्होंने न कॉल किया न मेसेज का जवाब दिया। 14 जून को सुबह 10:30 पर मैंने सुशांत को फोन किया लेकिन उन्होंने मेरा फोन नहीं उठाया। इसलिए मैंने सिद्धार्थ पिठानी को फोन किया, जो कि उनके साथ रह रहे थे।

दोस्तों आगे सिद्धार्थ ने बताया कि उसने सुशांत को नारियल का जूस ओर अनार का जूस दिया है और वह सो रहे होंगे। सिद्धार्थ दरवाजा खटखटाया लेकिन दरवाजा अंदर से बंद था। मीतू ने बताया कि सुशांत कभी अंदर से दरवजा नहीं बंद करते और उनसे फिर दर-वाजा खटखटाने को कहा। मैंने उनसे ये भी कहा कि सुशांत को बता देना कि मैंने फोन किया था।

दोस्तों मीतू ने आगे बयान में बताया कि कुछ देर बाद सिद्धार्थ ने मुझे फोन करके बताया कि उन्होंने सुशांत का दरवाजा कई बार खटखटाया लेकिन उन्होंने दरवाजा नहीं खोला। अब वह चाबी बनाने वाले को बुलाने जा रहे हैं। सिद्धार्थ की इस कॉल के बाद मैं तुरंत कैब से गोरेगांव से बांद्रा के लिए रवाना हो गई। टैक्सी से आते वक्त सिद्धार्थ का फिर से फोन आया और उन्होंने बताया कि दरवाजा खोल लिया है और सुशांत पंखे से लटके हैं। जब मैं घर पहुंची तो देखा कि सुशांत बेड पर उल्टे लेटे हैं और सीलिंग फैन से ग्रीन कुर्ता लटक रहा है।

दोस्तो ये थी मीतू सिंह राजपूत की बयान कि पूरी जानकारी आपको किया लगता है। कमेंट करके हमें जरूर बताएं गा। आशा करते है। की आपको हमरा ये आर्टिकल पसंद आया हो होगा धनियवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here